Ashneer Grover BharatPe Controversy

Ashneer Grover BharatPe Controversy: दिल्ली हाई कोर्ट ने दी 2 लाख की पेनल्टी, क्यू और कैसे जानें?

Ashneer Grover BharatPe Controversy: 28 नवंबर को दिल्ली हाई कोर्ट ने अशनीर ग्रोवर पर 2 लाख की पेनल्टी की याचिका दायर की थी। अशनीर ग्रोवर भारतपे के संस्थापक और ईस्ट स्टेबलम के निदेशक रह चुके हैं। हाई कोर्ट के पक्ष से पेनल्टी इस लिए क्योंकि दोस्त अशनीर ग्रोवर ने अपने ट्विटर अकाउंट (yaani ki ex account) पर भारतपे के बारे में एक गलत पोस्ट डाली थी। बाद में उन्होंने यह पोस्ट कर अपना ऐसा ex अकाउंट डिलीट कर दिया। उनके खिलाफ यह कार्रवाई इसलिए की गई क्योंकि उन्होंने दिल्ली High Court को यह विश्वास दिलाया था कि वह भारतपे कंपनी के बारे में कुछ गलत बयान देकर दूर चले गए हैं।

भारतपे कंपनी ने कोर्ट में भर्ती कार्यालय की पोस्ट को बंद करने के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी। मनहानिकारक कहानी यानी ऐसी कुछ बातें जो भारतपे कंपनी को बदनाम कर रही हैं।

Ashneer Grover के खिलाफ और एक Court Case

Ashneer Grover BharatPe Controversy: पिछले हफ्ते भारतपे कंपनी अशनीर ग्रोवर के खिलाफ एक नया मामला दर्ज हुआ था। इस केस के पीछे भारतपे कंपनी का ये मकसद था, कोर्ट की हेल्पर से भारतपे, अशनीर ग्रोवर को कंपनी की Confidential Information को ऐसे पब्लिश ना करे । BharatPe कंपनी ने यह रोजगार अनुबंध की शुरुआत की, अशीर ग्रोवर ने आज भी रोजगार अनुबंध से लेकर राजभवन तक का सफर तय किया, जो उन्होंने भारतपे में काम करने का समय दिया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अशनीर ग्रोवर, जो Under Investigation है/ क्योंकि उनपर भारतपे कम्पनी में फाइनेंशियल घोटाले करने का आरोप है।

Ashneer Grover और उनकी पत्नी को Airport पे रोका

इसी महीने, अशनीर ग्रोवर और उनकी पत्नी रफीक जैन दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरे थे। इसकी वजह यह थी कि उनके खिलाफ एक सार्कुलर जारी किया गया था, जिसमें कहा गया था कि, भारतपे जैसी बड़ी फिनटेक कंपनी फ़्रॉड में अपना कनेक्शन रचा गया है।

अशनीर ग्रोवर और उनकी पत्नी वेकेशन के लिए न्यूयॉर्क जा रहे थे तभी दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर गए थे। इसी वजह से दिल्ली पुलिस के लिंकन ऑफेंस विंग (EoW) ने एक लुक आउट सरकुलर और नोटिस जारी किया है।

Ashneer Grover के खिलाफ इकोनॉमिक ऑफेंस विंग का सर्कुलर (Ashneer Grover BharatPe Controversy)


इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EoW) का यह कहना है कि, अशनीर ग्रोवर जब भारतपे के सेलिंग डायरेक्टर थे तब उन्होंने मायर रिसर्स कंसल्टेंसीस को कुछ समर्थन दिया था। असल में यह रोज़गार कंसल्टेंसीज़ को अशनीर ग्रोवर और उनकी फैमली लीडरशिप देता है।

भारतपे कंपनी ने अशनीर ग्रोवर के खिलाफ, उनकी पत्नी रफीक जैन और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ एक सिविल पद पर भी मामला दर्ज किया है। इस अकाउंट के अकाउंट से भारतपे कंपनी अशनीर ग्रोवर से कुल ₹88 करोड़ की मांग कर रही है क्योंकि उन्होंने कंपनी का पैसा इस्तमाल कर लिया है और कंपनी को बहुत बड़ा नुकसान हुआ है।

कंप्यूटर बेसिक से सम्बंधित अन्य महत्वूर्ण लेख पढ़ें:

What is Computer? – कंप्यूटर क्या है?कम्प्यूटर की पीड़ियाँ [Generation of Computer]
Input Device क्या है और इसके प्रकारOutput Devices [आउटपुट उपकरण ]
Characteristics Of Computer [कम्प्यूटर की विषेषताऐं]कंप्यूटर के अनुप्रयोग (Applications of Computer)
Development of Computer in Hindi- कंप्यूटर का विकासइंटरनेट क्या है (What is Internet)?
CPU क्या है [ What is C.P.U. ]?इंटरनेट का मालिक कौन है (Who is the owner of the internet)?
कंप्यूटर मेमोरी (Computer Memory in Hindi):कम्प्युटर मेमोरी क्या है -What is Computer Memory? | Types of Memory
Computer Memory Units-मेमोरी यूनिट क्या है?कंप्यूटर नेटवर्क -Computer Network

Read Also

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *