Senior Citizen Saving Scheme (2020) वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

Senior Citizen Saving Scheme

सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम (2020)

Senior Citizen Saving Scheme यानी ”वरिष्ठ नागरिक बचत योजना”। सरकार ने ये स्कीम बुजुर्गों के लिए चलाई है। इस स्कीम में दूसरी सभी saving schemes से बेहतर ब्याज मिलता है। इतना ही नहीं सरकारी स्कीम होने के नाते ये बहुत safe भी है। क्योंकि सरकार आपका पैसा लेकर भाग नहीं सकती है।
सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम का खाता खुलवाते समय आप एक बड़ी रकम जमा करते हैं। इस निवेश के बदले आपको हर तीन महीने पर ब्याज मिलता है। पांच साल बाद आपकी जमा रकम वापस मिल जाती है।
इस पोस्ट में हम Senior Citizen Saving Scheme से जुड़े प्रमुख नियमों के साथ-साथ जानने योग्य सभी प्रमुख बातों को लेकर आए हैं। आइए पढ़ते हैं।

सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम की प्रमुख विशेषताएं (Features of Senior Citizen Saving Scheme) (SCSS)

Senior Citizen Saving Scheme कई ऐसी खूबियां लिए हुए है, जो इसे अन्य योजनाओं से खास बनाती है। ये न सिर्फ आपको सबसे ज्यादा ब्याज (highest fixed interest return) देती है, बल्कि अधिकतम टैक्स बचत (maximum tax saving) की सुविधा भी देती है।साथ ही साथ यह खाताधारक को नियमित आय (regular income) भी उपलब्ध कराती है। नौकरी से retired होने वाले लोगों के लिए यह सर्वश्रेष्ठ (perfect) बचत योजना है। इस योजना की अन्य विशेषताएं इस प्रकार हैं।

5 साल में मैच्योरिटी | Matures in 5 Years

Senior Citizen Saving Scheme का अकाउंट पांच साल के लिए होता है। पांच साल के बाद आपको पूरी जमा रकम वापस मिल जाती है।
लेकिन अगर आपकी इच्छा है तो आप अपने अकाउंट को तीन साल के लिए आगे भी बढ़वा सकते हैं। हालांकि एक्सेंटशन कराते समय ब्याज दर बदल सकती है। क्योंकि एक्सेंटशन पर ब्याज उस समय के हिसाब से तय होगी।

ब्याज दर – 8.6%  Rate of Interest Of SCSS Deposit Account

Senior Citizen Saving Scheme का सबसे बड़ा फायदा, इस पर मिलने वाली उच्च ब्याज दर (high-interest rate) है। यह PPF के interest rate से प्राय: 0.7% ज्यादा होती है। फिलहाल (September 2019) Senior Citizen Saving Scheme की ब्याज दर 8.6 % है, जोकि PPF (7.9%) या किसी भी सरकारी बैंक की FD में मिलने वाली ब्याज दर से अधिक है।

ब्याज का भुगतान – हर 3 महीने पर (Payment of Interest In SCSS Account)

Senior Citizen Saving Scheme आपको नियमित रूप से आमदनी देती है। हर तिमाही (quarter) की शुरुआत में इसका ब्याज आपको मिल जाता है। ब्याज मिलने की तारीख भी निश्चित (fixed) होती है। हर तिमाही के पहले महीने यानी April, July, October और January के पहले कार्यदिवस (1st working day) पर यह आपको मिलता है। अगर उस दिन अवकाश (holiday) पड़ रहा है तो फिर अगले working day पर ब्याज की यह रकम मिल जाती है। Senior Citizen Saving Scheme पर ब्याज की गणना तिमाही आधार (quarterly) पर होती है। गौरतलब है कि Bank FD पर भी ब्याज की गणना तिमाही होती है

सीनियर सिटिजन स्कीम पर टैक्स छूट
(Tax on Senior Citizen Saving Scheme)

PPF और Suknaya samriddhi Yojana की तरह Senior Citizen Saving Scheme अकाउंट में जमा रकम पर भी section 80C के तहत टैक्स छूट का फायदा मिलता है।
हालांकि,PPF और Suknaya samriddhi account की तरह यह पूरी तरह टैक्स छूट (Exempt, exempt, exempt-EEE) वाली स्कीम नहीं है। क्योंकि, इसमें जमा रकम पर मिलने वाली ब्याज पर tax saving fixed deposit के समान टैक्स देना पड़ता है। यानी कि Senior Citizen Saving Scheme अकाउंट पर आपको interest के रूप में जो भी आमदनी होती है, वह taxable income में शामिल की जाती है। आमतौ पर लोगों को इसकी वजह से टैक्स नहीं देना होता है क्योंकि पांच लाख तक की कमाई वैसे भी टैक्स फ्री होती है।

टीडीएस कटता है
TDS on Senior Citizen Saving Scheme

Senior Citizen Saving Scheme पर TDS लागू होता है। अगर एक financial year के दौरान इसमें जमा रकम पर आपको 40,000 रुपए से ज्यादा ब्याज मिलता है तो इस पर TDS कट जाएगा। bank या post office, जहां भी आपका Account होगा, वहां ब्याज के payment के समय TDS काट लिया जाएगा। हालांकि, अगर आपकी सभी तरह की आमदनी (Earnings) को मिलाने के बाद अगर कुल आमदनी Tax लागू होने की सीमा में नहीं है तो TDS से आप बच सकते हैं। इसके लिए आपको, Form 15H भरकर जमा करना होगा।

निवेश की सीमा – ₹15 लाख
(Investment Limits)

Senior Citizen Saving Scheme में आप कम से कम 1000 रुपए जमा कर सकते हैं। इससे ज्यादा आप चाहे तों 1000 के गुणांक (multiple) में बढ़ाकर भी पैसा जमा कर सकते हैं। लेकिन, एक व्यक्ति के नाम 15 लाख रुपए से ज्यादा Deposit नहीं किए जा सकते। आप चाहें तो अपने नाम पर एक से अधिक SCSS account भी खोल सकते हैं। लेकिन, सभी SCSS account में जमा रकम का Total 15 लाख रुपए से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

कौन खोल सकता है एससीएसएस अकाउंट?
(Who Can Open SCSS Account)

Senior Citizen Saving Scheme सिर्फ उन लोगों के लिए है, जो वरिष्ठ नागरिक की Category में आते हैं, यानी 60 साल की उम्र पार कर चुके हैं। हालांकि, जो लोग इससे पहले Retired होते हैं, उनके लिए Mnimum Age limit में छूट है। अगर आप सरकारी नियम के कारण या स्वैच्छिक सेवानिवृृत्ति (VRS) लेकर Retire होते हैं तो 55 साल की उम्र पूरी होने पर भी Senior Citizen Saving Scheme में अकाउंट खोल सकते हैं। इसी तरह रक्षा सेवाओं (defence services) से retired होने वाले लोगों के लिए न्यूनतम उम्र सीमा का कोई प्रतिबंध नहीं है वे Retirement के बाद कभी भी SCSS Account खुलवा सकते हैं।

संयुक्त खाता खोलने की सुविधा
(Joint Account Facility in SCSS)

Senior Citizen Saving Scheme में आप अपने पति या पत्नी के साथ संयुक्त खाता (joint account) भी खोल सकते हैं। संयुक्त खाता होने पर दूसरे Account Holder के लिए न्यूनतम उम्र सीमा का प्रतिबंध लागू नहीं होता। लेकिन खाता संचालन (Account Operation) या उसमें जमा रकम को निकालने (withdrawal) की सुविधा उसे तभी मिल सकती है, जबकि मुख्य खाताधारक (first applicant) का निधन हो जाए। वैसे, पति-पत्नी चाहें तो अपने अलग-अलग SCSS account भी खुलवा सकते हैं।

नॉमिनी बनाने की सुविधा
(Nomination Facility)

आप अपने Senior Citizen Saving Scheme अकाउंट का Nominee भी बना सकते हैं। Account खोलते समय या बाद में कभी भी आप अपना Nominee तय कर सकते हैं। जरूरत पड़ने पर पहले से दर्ज Nominee का नाम बदला भी जा सकता है। Joint Account होने पर भी Nominee बनाया जा सकता है। लेकिन ऐसी स्थि ति में मुख्य खाताधारक (first Applicant) की मौत होने पर Account में जमा पैसे पर पहला अधिकार दूसरे Joint Account Holder का ही होगा।

एनआरआई के लिए उपलब्ध नहीं
(Not Available for NRIs)

Senior Citizen Saving Scheme में ऐसे लोग account नहीं खुलवा सकते, जिन्होंने किसी अन्य देश की नागरिकता ग्रहण कर ली है यानी non-resident Indian बन चुके हैं। यह सिर्फ भारतीय मूल (Indian Origin) के और लोगों और Hindu Undivided Family (HUF) के तहत आने वाले लोगों के लिए ही उपलब्ध है।

अकाउंट ट्रांसफर की सुविधा
Account Transfer Facilities

आप जरूरत पड़ने पर या अपनी सुविधा के मुताबिक जब चाहें अपने SCSS account का transfer अपने नजदीक के post office या बैंक शाखा में करवा सकते हैं। आपका अकाउंट post office मेें है तो किसी दूसरे post office या किसी Bank शाखा में अपना Account Transfer करा सकते हें। इसी तरह अगर आपका Account किसी बैंक में है तो वहां से किसी दूसरे Bank, या post office के लिए भी Account Transfer करवा सकते हैं। इसके लिए आपको, वहां Form G भरकर जमा करना होता है। SCSS account की passbook के साथ अकाउंट transfer के लिए आवेदन करना होता है।

समय (मेच्योरिटी) के पहले पैसा निकालने के नियम
Rules for Premature Withdrawal

Senior Citizen Saving Account खुलवाने की तारीख से एक साल के बाद आप आवश्यक होने पर पैसा निकाल सकते हैं। लेकिन, ऐसी स्थिति में आपको penalty काटने के बाद ही बची रकम मिल पाएगी। penalty के संबंध में नियम इस प्रकार हैं—

• अगर SCSS account के एक साल पूरे होने के बाद, दो साल पूरे होेने के पहले आप account बंद करते हैं तो जमा रकम का 1.5% Penalty के रूप में काट लिया जाएगा।
• अगर SCSS account के दो साल पूरा होने के बाद आप account बंद करते हैं तो जमा रकम का 1% Penalty के रूप में काटकर बची रकम मिल पाएगी।
Note: अगर आपने 5 साल का Basic maturity Period पूरा करने के बाद account की अवधि बढ़वाई है तो नियम अलग हो जाता है। ऐसे में, बढ़ाई गई अवधि के एक साल पूरा होने के बाद, बीच में पैसा निकालने पर किसी प्रकार की Penalty नहीं कटती।

कहां खुलवा सकते है सीनियर सिटिजन सेविंग अकाउंट
Where to Open Senior Citizen Saving Account

Post Office के अलावा, SBI, सभी सरकारी और प्रमुख निजी बैंकों में SCSS अकाउंट खोलने की सुविधा उपलब्ध है। लेकिन, यह सुविधा उन बैंकों की सिर्फ निर्धारित (designated) bank branches में ही होती है। सामान्यतया, जिन बैंक शाखाओं में PPF account और Sukanya Samriddhi account खोलने की सुविधा होती है, वहां Senior Citizen Saving Account खोलने की सुविधा होती है।
इस पोस्ट में हमने Senior Citizen Saving Account से जुड़े प्रमुख नियमों और विशेषताओं के बारे में जाना। केंद्र सरकार की कई और लघु बचत योजनाएं (Small Saving Schemes) हैं , जिनमें अच्छी ब्याज दर और टैक्स छूट के फायदे मिलते हैं। इनमें पीपीएफ अकाउंट और सुकन्या समृद्धि योजना प्रमुख हैं।

Read Also

Sukanya Samriddhi Scheme 2020 ( सुकन्या समृद्धि योजना

पैसे से पैसा बनाने के 10 टिप्स [How do I invest Money to make Money]

ड्राइविंग लाइसेंस Online कैसे बनवाएँ (Driving Licence kaise bawayen)?

What is Fixed Deposit (FD) Account – फिक्स्ड डिपाजिट अकाउंट क्या होता है ?

State Bank of India (SBI) Recurring Deposits (RD) Account

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *