फास्टैग क्या होता है? और इसके क्या लाभ हैं?

हम जानेंगे फास्टैग के बारे में कि यह फास्टैग क्या होता है? और यह कैसे काम करता है?, इसको कहां से खरीद सकते हैं और इसका यूज कहां कहां पर कर सकते हैं तथा इसको रिचार्ज कैसे कराते हैं तो आइए जानते हैं.

टोल प्लाजाओं पर टोल कलेक्शन सिस्टम से होने वाली परेशानियों का हल निकालने के लिए “राष्ट्रीय हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया” द्वारा भारत में “इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन” (ETC) सिस्टम शुरू किया गया है.  इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम भारत में सबसे पहले साल 2014 में शुरू की गई थी.  जिसे धीरे धीरे पूरे देश  के टोल प्लाजा के ऊपर  लागू किया जा रहा है.  फास्टैग सिस्टम की मदद से आपको टोल प्लाजा में टोल टैक्स देने के दौरान होने वाली परेशानियों से निजात मिल सकेगी. फास्टैग की मदद से आप टोल प्लाजा में बिना रुके अपना टोल प्लाजा टैक्स दे सकेंगे आपको बस अपने बाहन पर फास्टैग लगाना होगा.  आप यह टैग किसी अधिकारिक टैग जारीकर्ता,  जैसे पेटीएम  सभी राष्ट्रीकृत बैंक्स   इत्यादि से खरीद सकते हैं.

देशभर में सड़क पर टोल का इलेक्ट्रॉनिक तौर पर संग्रह तेज करने के लिए जल्द ही पेट्रोल पंपों पर फास्टैग उपलब्ध कराए जाएंगे। बाद में इनका उपयोग पेट्रोल खरीदने और पार्किंग शुल्क अदा करने में भी किया जा सकेगा। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा,  अब से फास्टैग पेट्रोल पंपों पर उपलब्ध होंगे और हमारी योजना इसे देशभर में उपलब्ध कराने की है। इसके अलावा यह योजना भी है कि ग्राहक इस कार्ड का उपयोग पेट्रोल खरीदने और पार्किंग सुविधाओं का शुल्क चुकाने में कर सकें।

फास्टैग क्या है? (What is FasTag)?

फास्टैग एक उपकरण होता है जो वाहन के सामने वाले कांच पर लगाया जाता है। और इसमें रेडियो फ्रिकवेंसी आईडेंटिफिकेशन ( आर एफ आई डी)  लगा होता है.  जैसे ही आप की गाड़ी टोल प्लाजा के पास आ जाती है,  तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंड स्क्रीन में लगे फास्टैग के संपर्क में आते ही,  आपके  फास्टटैग अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क काट देता है और आप बिना  वहां रुके अपना प्लाजा टेक्स का भुगतान कर देते हैं . वाहन में लगा यह टैग,  आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना कार्य शुरू कर देगा.  वहीं जब आपके फास्टैग अकाउंट की राशि खत्म हो जाएगी,  तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा.  फास्टैग की वैधता 5 वर्ष की होगी यानी 5 वर्ष के बाद आपको नया फास्टैग अपनी गाड़ी पर लगवाना होगा.

फास्टैगके फायदे ( Benefits of FasTag)

सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने टोल प्लाजा में टोल टैक्स देने के कारण लगने वाली गाड़ियों की लंबी लाइन और खुले पैसे होने की समस्या को हल करने के लिए फास्टैग सिस्टम को देश के कई टोल प्लाजा ऊपर शुरू किया है.  फास्टैग की मदद से आपका समय बचने के साथ-साथ आपके पेट्रोल या डीजल की भी बचत होगी.

एस एम एस की होगी सुविधा

जब भी आप फास्टैग लगे वाहन से किसी टोल प्लाजा को पार करेंगे,  तो फास्टैग अकाउंट से आपका शुल्क कटते ही आपके पास एक एसएमएस आ जाएगा.  एसएमएस के जरिए आपको फास्टैग अकाउंट से कितनी राशि काटी गई है उसके बारे में आपको जानकारी दी जाएगी.

इन बैंकों से होगा रिचार्ज  (Bank for Recharge Fastag or Electronic Toll Collection (ETC) Account)

आप क्रेडिट कार्ड,  डेबिट कार्ड, आरटीजीएस और नेट बैंकिंग के माध्यम से अपने फास्टैग अकाउंट को रिचार्ज कर सकते हैं. फास्ट टैग खाते में कम से कम 100 Rs. और ज्यादा से ज्यादा 100000 रुपए तक का रिचार्ज कराया जा सकता है.  आप किसी भी पॉइंट ऑफ सेल(POS) के अंदर आने वाले टोल प्लाजा और एजेंसी में जाकर अपना फास्टैग स्टीकर और फास्टैग अकाउंट खुलवा सकते हैं.  राष्ट्रीय हाईवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट में जाकर आप अपने आसपास के पॉइंट ऑफ सेल की जगह पता कर सकते हैं.

बैंक ने पूरे देश के सभी राजमार्गों पर टोल शुल्क देने को आसान बनाने के लिए पेटीएम फास्टैग को शुरू किया है।

चल रही कार कंपनियों से बात

मौजूदा समय में पेटीएम पेमेंट्स  बैंक, नए वाहन खरीदने वाले ग्राहकों के लिए पेटीएम फास्टैग उपलब्ध कराने की खातिर कार कपंनियों के साथ बात कर रहा है. इसके लिए कार डीलर्स के साथ भी बातचीत चल रही है. इसमें मारुति, हुंडई, टाटा, मर्सिडीज, रेनॉल्ट समेत अन्य कार कंपनियां शामिल हैं.

खरीद सकते हैं ऑनलाइन

पेटीएम के मुताबिक पुराने वाहनों के लिए पेटीएम ऐप पर फास्टैग को ऑनलाइन खरीद सकते हैं। पेटीएम फास्टैग का प्रयोग करने वाले ग्राहकों को प्रत्येक टोल लेनदेन में 7.5% का कैशबैक मिलेगा। बैंक इस वित्त वर्ष के अंत तक पेटीएम फास्टैग का प्रयोग करने वाले वाहनों की संख्या 10 लाख के पार पहुंचाने की उम्मीद करता है।

फास्टैग लेने के लिए आवश्यक डाक्यूमेंट्स

फास्ट टैग अकाउंट खोलने के वक्त आपको दिए गए एक फॉर्म के साथ निम्नलिखित दस्तावेजों को भी जमा करवाने की आवश्यकता पड़ेगी,  जो इस प्रकार है-

  • वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र( RC)
  • वाहन मालिक  का पासपोर्ट साइज के फोटो
  • वाहन मालिक के केवाईसी दस्तावेज और एड्रेस प्रूफ

वैसे आपको बता दें सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने सभी गाड़ी निर्माताओं कंपनी और वाहन डीलरों को यह सुनिश्चित करने को कहा है, कि खरीदे जाने वाले वाहनों पर उसके मालिक द्वारा फास्ट टैग जरूर लगवाया जाए इसीलिए अब यह आवश्यक है कि आपको फास्टैग अपने वाहन पर लगवाना होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *